नहीं बाज आ रहा PAK, जम्मू के अरनिया सेक्टर में पूरी रात दागे मोर्टार / NiPah वायरस से मरने वालों का बढ़ा आंकड़ा / सीमा पर PAK की फायरिंग, जारी रहेगा सीजफायर

विस्तृत समाचार

पेट की गडबडी के कारण व निवारण

Posted on : Feb 14 2018


पेट की गडबडी के कारण व निवारण

इंडिया इमोशंस न्यूज  पेट में गडबडी आम समस्या है, जिसके अलग-अलग कारण हो सकते हैं। क्यों ना इसका तुरंत समाधान कर चुस्त रहा जाए महिलाएं पेट की गडबडी की अधिक शिकार होती हैं। इसके कुछ कारण तो बहुत सामान्य होते हैं, पर कुछ ऐसे भी होते हैं, जिनके बारे में ज्यादा मालूम नही होता, इसलिए उस ओर हमारा ध्यान भी नही जाता। कौन से हैं ये कारण, इस बारे में एक जानकारी।
कई महिलाएं माहवारी शुरू होने से पहले पेट में भारीपन, कब्ज और अतिसार की शिकायत करती हैं। माहवारी के शुरू होते ही स्थिति में अचानक बदलाव आता है और यह समस्या अपने आप दूर हो जाती है। सन डियागो में गैस्ट्रोएंट्रोलॉजिस्ट डॉ के अध्ययनो से पता चलता है कि एस्ट्रोजन हारमोन नसों के तंतुओं को प्रेरित कर आंतो से गुजरने वाले मल की गति को बढा देता है। इसी तरह माहवारी के पहले और माहवारी के दौरान पेट का फूलना एक आम समस्या है। इसका कारण प्रोजस्ट्रॉन हारमोन के स्तर में बदलाव आना है, जो गुर्दे के लिए पानी और नमक को रोककर रखने का संकेत हो सकता है।
गर्भवती महिलाओं में पेट की गडबडी, खासतौर से खट्टी डकारें आने की समस्या अधिक होती है। अमेरिकन गैस्ट्रोएंट्रोलॉजिकल एसोसिएशन के अनुसार 30 से 50 प्रतिशत गर्भवती महिलाएं इस समस्या की शिकार होती हैै। इसका कारण हारमोनल और शारीरिक बदलाव होता है।
कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि कैल्शियम सप्लीमेंट लेने से पेट के फूले होने और प्रीमेंस्टु्रअल सिंड्रोम के अन्य लक्षणों में सुधार हो सकता है। इसके साथ ही पानी भी अधिक मात्रा में पिएं। खट्टी डकारें खासतौर से गर्भावस्था में से छुटकारा पाने के लिए रात को सिर के नीचे कई तकिए लगा कर सोएं। सिट्रस, पिपरमिंट, मिर्च-मसालेदार या फिर टमाटर से बनी चीजें खाने से परहेज करे, क्योंकि ये इस समस्या को बढावा देती हैं।

अतिसार होने पर- केला, दही और चावल खाएं।
पेट दर्द होने पर- मूली के रस में नीबू मिलाकर पीने से भोजन के बाद पेट में होने वाला दर्द या गैस मिटता है।
2 ग्राम सेंधा नमक खाने से पेट का दर्द कम होता है।

गैस और पेट में भारीपन- भोजन के बाद 125 ग्राम दही के मट्ठे में 2 ग्राम अजवाइन और आधा ग्राम काला नमक मिला कर खाने से गैस दूर होती है और पेट का भारीपन कम होता है।

धनिया और शक्कर का शरबत बना कर पीने से पेट की जलन में आराम मिलता है।

डाक्टर के पास कब जाएं
खट्टी डकारें आने पर-दर्द इतना ज्यादा हो कि आप सो ना सकें या फिर निगलने में परेशानी हो, छाती में दर्द हो और सांस लेने में कठिनाई हो, या फिर व्यायाम के दौरान ये लक्षण और भी बिगड जाएं, तो तुरंत अपने डाक्टर से मिलें। जीवनशैली में बदलाव लाने या दूसरे तरीके अपनाने के बावजूद यह समस्या बनी रहे और इलाज ना कराया जाए, तो बार-बार खट्टी डकारें आने से कैंसर से पूर्व की स्थितियां बन जाती है।

 



अन्य प्रमुख खबरे

वजन तेजी से घटाना चाहते हैं तो यूं करें अजवाइन का सेवन

इंडिया इमोशन्स न्यूज अजवाइन आपको हर भारतीय रसोई में आसानी मिल जाएगी

पेट की इस समस्या से हैं परेशान तो न करें नजरअंदाज, नहीं तो पड़ेगी भारी

इंडिया इमोशंस न्यूज लंबे समय तक पेट की खराबी को नजरअंदाज करना जानलेवा साबित हो सकता है

वजन कम करने के लिए जोड़े इनसे नाता और देखें फायदे

इंडिया इमोशंस न्यूज आज की महिला खुद को स्वस्थ और आकर्षक बनाए रखना चाहती है, पर इस अति व्यस्त जीवनशैली में उसके पास अपने लिए

बिना किसी साइड-इफैक्ट के नैचुरल तरीके से बालों को करें स्ट्रेट

इंडिया इमोशन्स न्यूज बालों को स्ट्रेट करना इतना ट्रेंड में है कि लड़कियां इसके लिए पार्लर जा कर हजारों पैसे खर्च कर रही हैं

गर्मी में रामबाण है नींबू, इन बीमारियों से रखता है दूर

इंडिया इमोशन्स न्यूज नींबू विटामिन सी से भरा होता है

ब्लॉक नसों को खोलने का काम करते हैं ये देसी नुस्खे वो भी बिना साइड इफैक्ट

इंडिया इमोशन्स न्यूज शरीर में ब्लड सर्कुलेशन सही रखने के लिए धमनियों का स्वस्थ होना बहुत जरूरी है

मच्छर के काटने पर पड़ने वाले निशान को मिनटों में मिटाएंगे ये घरेलू नुस्खे

इंडिया इमोशन्स न्यूज इस मौसम में मच्छरों का आंतक बहुत ज्यादा बढ़ जाता है

अच्छी सेहत चाहते हैं, तो इंटरनेट नहीं डॉक्टर से मिलें

इंडिया इमोशन्स न्यूज आजकल एक नया ट्रेंड देखने में आ रहा है

दिमाग को बनाना है तेज, तो करें इन चीजों का सेवन

इंडिया इमोशन्स न्यूज हर समय कामकाज में व्यस्त या फिर किसी भी टेंशन के कारण सभी में भूलने की आदत बढ़ती जा रही है

बहरेपन को ठीक करने में बेहद कारगर हैं ये देसी नुस्खे

इंडिया इमोशन्स न्यूज बहरेपन की समस्या कुछ लोगों को बचपन से होती है और कुछ की किसी दुर्घटना या फिर अपनी लापरवाही जैसे ज्यादा

लखनऊ समाचार

सेहत समाचार

बिज़नेस समाचार

धर्म संसार समाचार