पाकिस्तान में खलबली: PAK सेना ने कहा, अंधेरे की वजह से कार्रवाई नहीं कर पाए | भारत-पाकिस्तान के बीच बॉर्डर पर बढ़ा तनाव, 8 एयरपोर्ट पर विमानों की आवाजाही बंद

विस्तृत समाचार

जालसाजों ने फर्जी नियुक्ति पत्र दें लाखों रुपये डकारे,एक अरेस्ट

Posted on : Jan 10 2019


जालसाजों ने फर्जी नियुक्ति पत्र दें लाखों रुपये डकारे,एक अरेस्ट

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ लखनऊ। यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भष्टाचार के बारे में चाहे जितनी भी नसीहतें और चेतावनियां अधिकारियों एवं कर्मचारियों को दें।मगर वे एक कान से मुख्यमंत्री की चेतावनियां सुनकर दुसरे कान से निकाल देते हैं।

ताजा मामला इंदिराभवन स्थित राज्य लोक सेवा अधिकरण में नौकरी दिलाने के नाम पर सात बेरोजगारों से जालसाजों ने लाखों रुपये ऐंठ लिए। जालसाजों ने अधिकरण के अध्यक्ष के फर्जी हस्ताक्षर बनाकर पीडि़त शत्रुघ्न को स्टेनो के पद का जाली नियुक्तिपत्र भी जारी कर दिया। अधिकरण में फर्जीवाड़े का खुलासा होने पर तीन कर्मचारियों को सस्पेंड कर दिया गया। उधर, शत्रुघ्न ने एक सहायक अध्यापक और अधिकरण के कर्मचारी समेत तीन के खिलाफ हजरतगंज कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया है, जिसके बाद एक कर्मचारी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया। पुलिस बाकी लोगों की तलाश करने में लगी है।

आगे पढ़े पूरा मामला : पुलिस के मुताबिक बलिया के उभांव फरसाटार गांव का निवासी शत्रुघ्न ने बताया कि उसके गांव का रहने वाला सहायक अध्यापक संतोष कुमार ने अप्रैल 018 में उनकी मुलाकात अपने साले मुक्तेश सिंह से कराई थी। मुक्तेश लखनऊ के बीबीडी कॉलेज से बीटेक का छात्र है। मुक्तेश उसे इंदिराभवन स्थित अधिकरण के दफ्तर लेकर पहुंचा। मुक्तेश ने एक लाख रुपये टोकन मनी के रूप में लिया और उसने कर्मचारी कमलेश कुमार से मिला कर उसे सारे शैक्षिक प्रपत्र दे दिए। कमलेश ने विभाग के एक स्टेनो व कुछ अन्य कर्मचारियों के साथ केबिन में 21 अप्रैल को इंटरव्यू लिया और कहा कि तुम पास हो गए हो। इसके बाद नियुक्तिपत्र के लिए 10 लाख रुपये मांगे। 23 अप्रैल को उन्हें 7.5 लाख रुपये नकद दिए गए। 25 को कमलेश ने अधिकरण के अध्यक्ष जस्टिस सुधीर कुमार सक्सेना के नाम से जारी नियुक्तिपत्र दिया।


आफिस में बैठा दो माह तक काम कराया : शत्रुघ्न ने बताया ,कि नियुक्ति पत्र मिलने के बाद चार दिन तक अपने ऑफिस में बैठाकर काम सिखाया,फिर दो माह तक काम कराया गया इस दौरान किये गये काम का न तो वेतन मिला और न ही विभाग द्वारा जारी पहचानपत्र मिला। पीड़ित ने बताया, कि आशंका होने पर बीते दिनों वह अधिकरण के अध्यक्ष से मुलाकात कर सारा वाक्या बताया और उनको नियुक्तिपत्र भी दिखाया। अध्यक्ष के हास्ताक्षर द्वारा जारी नियुक्ति पत्र को उन्होंने फर्जी बताया। उन्होंने कहा मैने कोई नियुक्ति पत्र जारी नही किया है। इस मामले की उन्होंने पड़ताल कराई,तो पता चला कि उनके फर्जी हस्ताक्षर बनाकर नियुक्तिपत्र जारी किया गया है। इसके बाद अध्यक्ष ने तीन कर्मचारियों के खिलाफ हजरतगंज थाने में तहरीर दी। इंस्पेक्टर हजरतगंज राधा रमण सिंह ने बताया कि कमलेश कुमार को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। जबकि अधिकरण ने तीन कर्मचारियों को सस्पेंड कर दिया। पुलिस की जाँच में पता चला कि जालसाजों ने छह अन्य युवकों से भी रुपये ऐंठे। बेरोजगार जितेंद्र से दो लाख, सोनू कुमार से डेढ़ लाख, विनय कुमार मौर्या से एक लाख, सुनील कुमार से एक लाख, प्रेम चंद्र चौहान से एक लाख व एक अन्य से भी नौकरी लगवाने के नाम पर रुपये ऐंठे थे। पुलिस मामले की जाँच करने में लगी हुई है। 



अन्य प्रमुख खबरे

उत्तर प्रदेश में इन छह सांसदों का टिकट कटा,उतारे नए उम्मीदवार

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ लखनऊ । लोकसभा चुनाव 2019 के लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने लोकसभा प्रत्याशियों की घोषणा कर दी है

उत्तर प्रदेश के 18 लाख कर्मियों को बढ़े महंगाई भत्ते का नकद भुगतान

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ योगी सरकार ने होली के मौके पर राज्य कर्मचारियों को बड़ा तोहफा देते हुए उन्हें मिलने वाला महंगाई भत्ता 9

गंगा सफाई का काम प्रियंका की चार पीढिय़ां नहीं कर पाई : योगी

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रियंका गांधी की गंगा यात्रा पर चुटकी ली है

UP सरकार के 2 साल : CM योगी बोले, मेरे कार्यकाल में नहीं हुआ एक भी दंगा

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की भाजपा सरकार ने सोमवार को दो साल पूरे कर लिए

लखनऊ समाचार

सेहत समाचार

बिज़नेस समाचार

धर्म संसार समाचार