उप्र में पहले चरण की आठ लोकसभा सीटों पर कड़ी सुरक्षा के बीच शुरु हुआ मतदान

विस्तृत समाचार

जानें, दीपक कब और कहां जलाने से होते हैं कौनसे फायदे

Posted on : Jun 08 2018


जानें, दीपक कब और कहां जलाने से होते हैं कौनसे फायदे

इंडिया इमोशन्स न्यूज भगवान की पूजा-आराधना करते समय अक्सर हम लोग पूजा की थाली में कपूर और दीपक जलाते हैं। इस दौरान दीपक अथवा थाली को किस प्रकार पकड़ना चाहिए या कितने दीपक जलाने से कौनसे देव प्रसन्न होते हैं, इन सभी का वर्णन पुराणों में मिलता है।

दीपकों के रहस्यों से परदा हटाता यह विशेष आलेख-

केले के पेड़ के नीचे बृहस्पतिवार को घी का दीपक प्रज्ज्वलित करने से कन्या का विवाह शीघ्र हो जाता है ऐसी भी मान्यता है। इस प्रकार बड़, गूलर, इमली, कीकर आंवला और अनेकानेक पौधों व वृक्षों के नीचे भिन्न-भिन्न प्रयोजनों से भिन्न-भिन्न प्रकार से दीपक प्रज्ज्वलित किए जाने का विधान है।
मान्यता है कि असाध्य व दीर्घ बीमारियों से पीड़ित व्यक्ति के पहने हुए कपड़ों में से कुछ धागे निकालकर उसकी जोत शुद्ध घी में अपने इष्ट के समक्ष प्रज्ज्वलित की जाए तो रोग दूर हो जाता है। ऐसी भी मान्यता है कि चौराहे पर आटे का चौमुखा घी का दीपक प्रज्ज्वलित करने से चहुंमुखी लाभों की प्राप्ति होती है।

नजर व टोटकों इत्यादि के निवारण के लिए भी तिराहे, चौराहे, सुनसान अथवा स्थान विशेष पर दीपक प्रज्ज्वलित किए जाते हैं।

पूर्व और पश्चिम मुखी भवनों में मुख्य द्वार पर संध्या के समय सरसों तेल के दीपक प्रज्ज्वलित किए जाने का विधान अत्यंत प्राचीन है। इसके पीछे मान्यता यह है कि किसी भी प्रकार की दुरात्मा अथवा बुरी शक्तियां घर में प्रवेश नहीं कर सकतीं।

एक मान्यता यह भी है कि सरसों तेल का दीपक प्रज्ज्वलित कर उसकी कालिमा को किसी पात्र में इकट्ठा कर लिया जाता है और उसे बच्चे की आंखों में काजल के रूप में प्रयोग किया जाता है साथ ही यह भी माना जाता है कि इसका टीका बच्चे को लगाने से उसे नजर नहीं लगती। गांव देहात में इसका काफी प्रचलन है।

मान्यता है कि तुलसी के पौधे पर संध्या को दीपक प्रज्ज्वलित करने से उस स्थान विशेष पर बुरी शक्तियों का दुष्प्रभाव नहीं पड़ता और प्रज्ज्वलित करने वालों के पापों का नाश होता है।
पीपल के वृक्ष के नीचे प्रज्ज्वलित किए जाने वाले दीपक अनेक मान्यताओं से जुड़े हैं।

कहा जाता है कि पीपल पर ब्रह्मा जी का निवास है इसलिए पीपल को काटने वाला ब्रह्म हत्या का दोषी कहलाता है। शनिदेव को इसका देवता माना गया है और पितरों का निवास भी इसी में है ऐसी मान्यता है



अन्य प्रमुख खबरे

हनुमान जयंती 2019: ऐसे पूजा करने से दूर होगे संकट, राशिनुसार लगाएं भोग

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ हनुमान जयंती के दिन सुबह जल्दी उठकर सभी नित्य कर्मों से निवृत्त होने के बाद हनुमान जी की पूजा-अर्चना

Navratri 2019 : जानें कब लगेगी अष्टमी और नवमी तिथि

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ चैत्र शुक्लपक्ष की अष्टमी तिथि को नवरात्रि अष्टमी तिथि मनाई जाती है

नवरात्रि करने के क्या है कारण, जानिए-राशियों में क्या पडेगा असर

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ चैत्र के नवरात्र इस बार 6 अप्रैल से शुरू हो रहे हैं

Mahashivratri 2019: सत्य और शक्ति का दिन है महाशिवरात्रि, पढ़ें शिवजी का यह ध्यान मंत्र

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ ‘शिव महिम्न: स्तोत्र' में प्रश्न है, ‘आप कैसे दिखते हैं शिव? हम आपका स्वरूप नहीं जानते

महाशिवरात्रि : बिल्व पत्र चढ़ाने से भगवान शिव होते हैं प्रसन्न, जानें इसके बारे में ये खास बातें

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ भगवान शंकर जल्द प्रसन्न होने वाले देवता हैं। थोड़ी सी पूजा का बहुत-बड़ा फल प्रदान करते हैं

पूजा में चढाया हुआ नारियल यदि खराब निकल जाता हैं तो समझिए...

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ नारियल को हर शुभ काम करने के लिए शुभ मानते हैं। उससे सारे काम शुभ तरीके से हो जाते हैं

आप भी करते है व्रत, जानिए क्या है इसके फायदें

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ हिन्दू धर्म में व्रत करने की ज्यादा मान्यता देखने को मिलती है

इन पत्तों से करें गणेशजी की पूजा, सफल होंगे हर अधूरे काम...

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ हिन्दू धर्म शास्त्रों के अनुसार, किसी भी शुभ काम के करने से पहले गणेश पूजन आवश्यक हैं

तो इसलिए महिलाएं छलनी से देखती हैं पति का चेहरा

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ करवा चौथ का त्योहार पति-पत्नी के मजबूत रिश्ते, प्यार और विश्वास का प्रतीक है

शंख को इस जगह रखने से होता है लाभ, जानिए शंख के फायदे

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ हिंदू धर्म में शंख का बहुत महत्व होता है

लखनऊ समाचार

सेहत समाचार

बिज़नेस समाचार

धर्म संसार समाचार