समाजवादी सेक्युलर मोर्चे का औपचारिक झंडा जारी, शिवपाल के साथ नेताजी को भी मिली जगह | रेवाडी दुष्कर्म: घटना साजिश का नतीजा, आरोपी 5 दिन के रिमांड पर

विस्तृत समाचार

किशनगंगा पर पाक को करारा झटका, भारतीय प्रस्ताव के पक्ष में वर्ल्ड बैंक

Posted on : Jun 05 2018


किशनगंगा पर पाक को करारा झटका, भारतीय प्रस्ताव के पक्ष में वर्ल्ड बैंक

इंडिया इमोशन्स न्यूज भारत के किशनगंगा बांध परियोजना से चिढ़े पाकिस्तान को एक बार करारा झटका लगा है। भारत के खिलाफ वर्ल्ड बैंक के पास शिकायत लेकर पहुंचे पाकिस्तान को भारत के प्रस्ताव को स्वीकार करने की सलाह दी गई है। पाकिस्तान इस विवाद को इंटरनैशनल कोर्ट में लेकर गया है जहां भारत ने एक निष्पक्ष एक्सपर्ट की नियुक्ति का प्रस्ताव दिया है। अब विश्व बैंक का कहना है कि पाकिस्तान को मामले में भारत के इस प्रस्ताव को स्वीकार कर लेना चाहिए।

'डॉन न्यूज' के मुताबिक, बीते हफ्ते वर्ल्ड बैंक के अध्यक्ष जिम योंग किम ने पाकिस्तान सरकार को यह सलाह दी है कि वह इस विवाद को ICA में ले जाने के अपने फैसले को बदले। पाकिस्तान हमेशा से यह दावा करता आया है कि सिंधु नदी में भारत के कई प्रॉजेक्ट्स वर्ल्ड बैंक की मध्यस्थता में 1960 में हुए सिंधु जल समझौते का उल्लंघन करते हैं। विश्व बैंक ने सिंधु और उसकी सहायक नदियों का पानी का बंटवारा करने के लिए यह समझौता करवाया था। अब सिंधु नदी पर पाकिस्तान की 80 प्रतिशत सिंचित कृषि निर्भर करती है। उसका कहना है कि बांध बनाने से न सिर्फ नदी का मार्ग बदलेगा बल्कि पाकिस्तान में बहने वाली नदियों का जल स्तर भी कम होगा। इसलिए इस विवाद की सुनवाई अंतरराष्ट्रीय कोर्ट में होनी चाहिए। दूसरी तरफ, भारत का दावा है कि सिंधु नदी समझौते के तहत उसे पनबिजली परियोजना का अधिकार है और इससे नदी के बहाव में या फिर जलस्तर में कोई बदलाव नहीं आएगा। भारत का कहना है कि बांध के डिजाइन को लेकर पाकिस्तान से विवाद को सुलझाने के लिए निष्पक्ष एक्सपर्ट नियुक्त किए जाने चाहिए।

इस मामले से जुड़े एक सूत्र ने डॉन न्यूज को बताया कि पाकिस्तान को लगता है कि विवाद को निष्पक्ष एक्सपर्ट द्वारा सुलझाए जाने के भारत के प्रस्ताव को मानने या अपने फैसले से पीछे हटने का मतलब है कि पंचाट के दरवाजे पाकिस्तान के लिए बंद हो जाएंगे और पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय न्यायालयों में अपने अधिकारों के लिए आवाज उठाने के हक को खो देगा। सूत्र ने कहा, 'यह एक उदाहरण बन जाएगा और हर बार जब दोनों देशों के बीच कोई विवाद पैदा होगा तो भारत इसे सुलझाने के लिए निष्पक्ष एक्सपर्ट नियुक्त करने की मांग करेगा। 12 दिसंबर 2016 को विश्व बैंक के अध्यक्ष ने पाकिस्तान के तत्कालीन वित्त मंत्री इशाक डार को चिट्ठी लिखकर यह बताया था कि इस मामले में दखल के लिए वह फिलहाल तैयार नहीं है और उसने ICA चेयरमैन के साथ ही निष्पक्ष एक्सपर्ट की नियुक्ति की प्रक्रिया को रोकने का फैसला लिया है।



अन्य प्रमुख खबरे

अमरीका में फ्लोरेंस तूफान की दस्तक, तेज हवाओं के साथ जोरदार बारिश शुरू

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ विलमिंगटनः अमरीका में फ्लोरेंस तूफान के तट के निकटतर आने के साथ ही शुक्रवार को सुबह को तेज हवाओं के

मैंने देश छोड़ने से पहले की थी अरुण जेटली से मुलाकात : विजय माल्या

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ लंदनः भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या ने आज बड़ा दावा करते हुए दावा किया कि मैं भारत छोड़ने से पहले

नवाज शरीफ पर फिर टूटा दुखों का पहाड़, पत्नी कुलसुम नवाज का हुआ निधन

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की मुश्किलें थमने का नाम ही नहीं ले रही है

9/11 का वो काला दिन, जब दुनिया के बड़े आतंकी हमले से थर्रा उठा था अमेरिका

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ न्यूयॉर्क के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर आज ही के दिन 11 सितंबर 2001 को हुए आतंकी हमले को 17 साल हो गए हैं

भारत के लिए खतरा, दुनिया का पांचवा सबसे बड़ा परमाणु देश बन सकता है पाक

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ वाशिंगटनः पाकिस्तान के परमाणु हथियारों पर नजर रखने वाले लेखकों के एक हालिया रिपोर्ट के मुताबिक,

इमरान खान ने ली पाकिस्तान के 22वें प्रधानमंत्री की शपथ

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ इस्लामाबाद। क्रिकेटर से राजनेता बने इमरान खान शनिवार को पाकिस्तान के नए प्रधानमंत्री की शपथ ले ली है

लखनऊ समाचार

सेहत समाचार

बिज़नेस समाचार

धर्म संसार समाचार