समाजवादी सेक्युलर मोर्चे का औपचारिक झंडा जारी, शिवपाल के साथ नेताजी को भी मिली जगह | रेवाडी दुष्कर्म: घटना साजिश का नतीजा, आरोपी 5 दिन के रिमांड पर

विस्तृत समाचार

ऐसे स्त्री, पुरूष में कामवासना का आवेग ज्यादा होगा

Posted on : Jan 06 2017


ऐसे स्त्री, पुरूष में कामवासना का आवेग ज्यादा होगा

-यदि शुक्र के साथ लग्नेश, चतुर्थेश, नवमेश, दशमेश अथवा पंचमेश की युति हो तो दांपत्य सुख यानि यौन सुख में वॄद्धि होती है वहीं षष्ठेश, अष्टमेश उआ द्वादशेश के साथ संबंध होने पर दांपत्य सुख में न्यूनता आती है.

-यदि सप्तम अधिपति पर शुभ ग्रहों की दॄष्टि हो, सप्तमाधिपति से केंद्र में शुक्र संबंध बना रहा हो, चंद्र एवम शुक्र पर शुभ ग्रहों का प्रभाव हो तो दांपत्य जीवन अत्यंत सुखी और प्रेम पूर्ण होता है.

-लग्नेश सप्तम भाव में विराजित हो और उस पर चतुर्थेश की शुभ दॄष्टि हो, एवम अन्य शुभ ग्रह भी सप्तम भाव में हों तो ऐसे जातक को अत्यंत सुंदर सुशील और गुणवान पत्नि मिलती है जिसके साथ उसका आजीवन सुंदर और सुखद दांपत्य जीवन व्यतीत होता है. (यह योग कन्या लग्न में घटित नही होगा)

-सप्तमेश की केंद्र त्रिकोण में या एकादश भाव में स्थित हो तो ऐसे जोडों में परस्पर अत्यंत स्नेह रहता है. सप्तमेश एवम शुक्र दोनों उच्च राशि में, स्वराशि में हों और उन पर पाप प्रभाव ना हो तो दांपत्य जीवन अत्यंत सुखद होता है|

-सप्तमेश बलवान होकर लग्नस्थ या सप्तमस्थ हो एवम शुक्र और चतुर्थेश भी साथ हों तो पति पत्नि अत्यंत प्रेम पूर्ण जीवन व्यतीत करते हैं.
-पुरूष की कुंडली में स्त्री सुख का कारक शुक्र होता है उसी तरह स्त्री की कुंडली में पति सुख का कारक ग्रह वॄहस्पति होता है. स्त्री की कुंडली में बलवान सप्तमेश होकर वॄहस्पति सप्तम भाव को देख रहा हो तो ऐसी स्त्री को अत्यंत उत्तम पति सुख प्राप्त होता है|

-जिस स्त्री के द्वितीय, सप्तम, द्वादश भावों के अधिपति केंद्र या त्रिकोण में होकर वॄहस्पति से देखे जाते हों, सप्तमेश से द्वितीय, षष्ठ और एकादश स्थानों में सौम्य ग्रह बैठे हों, ऐसी स्त्री अत्यंत सुखी और पुत्रवान होकर सुखोपभोग करने वाली होती है.पुरूष का सप्तमेश जिस राशि में बैठा हो वही राशि स्त्री की हो तो पति पत्नि में बहुत गहरा प्रेम रहता है| वर कन्या का एक ही गण हो तथा वर्ग मैत्री भी हो तो उनमें असीम प्रम होता है. दोनों की एक ही राशि हो या राशि स्वामियों में मित्रता हो तो भी जीवन में प्रेम बना रहता है|
-अगर वर या कन्या के सप्तम भाव में मंगल और शुक्र बैठे हों उनमे कामवासना का आवेग ज्यादा होगा अत: ऐसे वर कन्या के लिये ऐसे ही ग्रह स्थिति वाले जीवन साथी का चुनाव करना चाहिये.

 



अन्य प्रमुख खबरे

बिगड़ी हुई किस्मत को संवारने के लिए आजमाएं ये आसान तरीके

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ आपका कोई भी काम अच्छा नहीं चल रहा

असफलता का एक मुख्य कारण भी होता है वास्तु, ऐसे करें दूर

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ कई बार हम देखते है कि इंसान बहुत मेहनत करने के बाद भी उसे सफलता नहीं मिलती है

सुबह-सुबह करें ये काम, धन की नहीं होगी कमी-परिवार रहेगा खुशहाल

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ हिन्दु धर्म के अनुसार, इंसान चाहे कितना भी देर से सोए, लेकिन सुबह जल्दी उठना ही चाहिए

...तो क्या सुंदर स्त्रियों से इसलिए नहीं करना चाहिए विवाह, जानिए क्या है वजह

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ आज के समय में ज्यादातर पुरुष विवाह के लिए सुंदर स्त्रियों को अधिक महत्व देते हैं

आपकी किस्मत में सरकारी नौकरी है या नहीं ये रेखाएं खोलती है राज...

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ इंसान की कुंडली या हस्तरेखा में उसके राज छुपे होते है

सोते समय सिरहाने नहीं रखें ये 5 चीजें, वरना हो जाएंगे बरबाद

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ सोते समय अक्सीर हम मैगजीन, अखबार, मोबाइल, पर्स आदि चीजों को सिरहाने रख देते हैं लेकिन धार्मिक ग्रंथों के

दुर्भाग्य को सौभाग्य में बदलने के लिए रोटी ऐसे बनेगी माध्यम

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ व्यापार में मंदी और नौकरी में परेशानी को दूर करने के लिए चार मीठी रोटी बनाकर उसमें अच्छेद से घी भरें और

जन्माष्टमी के दिन करेंगे ये काम, तो नहीं रहेगी धन-दौलत की कमी

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ भादौ महीने के कृष्णपक्ष की अष्टमी तिथि की को जन्माष्टी का त्यौहार मनाया जाता है

पर्स में भूलकर भी ना रखें चाबी, जानिए होता है क्या

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ पर्स पुरुषों और महिलाओं के जरूरत की चीजों में सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा हैं

मरने से पहले परछाई भी छोड देती साथ, जानिए-मौत से पहले के संकेत

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ अक्सर कहा जाता है कि इंसान ने जन्म लिया है तो उसकी मृत्यु भी निश्चित है

लखनऊ समाचार

सेहत समाचार

बिज़नेस समाचार

धर्म संसार समाचार