1984 सिख विरोधी दंगों के दोषी यशपाल को फांसी, नरेश को उम्रकैद | दिल्ली सचिवालय में CM केजरीवाल पर मिर्ची पाउडर से हमला | सुषमा स्वराज का ऐलान- नहीं लड़ेंगी अगला लोकसभा चुनाव

विस्तृत समाचार

ऐसे स्त्री, पुरूष में कामवासना का आवेग ज्यादा होगा

Posted on : Jan 06 2017


ऐसे स्त्री, पुरूष में कामवासना का आवेग ज्यादा होगा

-यदि शुक्र के साथ लग्नेश, चतुर्थेश, नवमेश, दशमेश अथवा पंचमेश की युति हो तो दांपत्य सुख यानि यौन सुख में वॄद्धि होती है वहीं षष्ठेश, अष्टमेश उआ द्वादशेश के साथ संबंध होने पर दांपत्य सुख में न्यूनता आती है.

-यदि सप्तम अधिपति पर शुभ ग्रहों की दॄष्टि हो, सप्तमाधिपति से केंद्र में शुक्र संबंध बना रहा हो, चंद्र एवम शुक्र पर शुभ ग्रहों का प्रभाव हो तो दांपत्य जीवन अत्यंत सुखी और प्रेम पूर्ण होता है.

-लग्नेश सप्तम भाव में विराजित हो और उस पर चतुर्थेश की शुभ दॄष्टि हो, एवम अन्य शुभ ग्रह भी सप्तम भाव में हों तो ऐसे जातक को अत्यंत सुंदर सुशील और गुणवान पत्नि मिलती है जिसके साथ उसका आजीवन सुंदर और सुखद दांपत्य जीवन व्यतीत होता है. (यह योग कन्या लग्न में घटित नही होगा)

-सप्तमेश की केंद्र त्रिकोण में या एकादश भाव में स्थित हो तो ऐसे जोडों में परस्पर अत्यंत स्नेह रहता है. सप्तमेश एवम शुक्र दोनों उच्च राशि में, स्वराशि में हों और उन पर पाप प्रभाव ना हो तो दांपत्य जीवन अत्यंत सुखद होता है|

-सप्तमेश बलवान होकर लग्नस्थ या सप्तमस्थ हो एवम शुक्र और चतुर्थेश भी साथ हों तो पति पत्नि अत्यंत प्रेम पूर्ण जीवन व्यतीत करते हैं.
-पुरूष की कुंडली में स्त्री सुख का कारक शुक्र होता है उसी तरह स्त्री की कुंडली में पति सुख का कारक ग्रह वॄहस्पति होता है. स्त्री की कुंडली में बलवान सप्तमेश होकर वॄहस्पति सप्तम भाव को देख रहा हो तो ऐसी स्त्री को अत्यंत उत्तम पति सुख प्राप्त होता है|

-जिस स्त्री के द्वितीय, सप्तम, द्वादश भावों के अधिपति केंद्र या त्रिकोण में होकर वॄहस्पति से देखे जाते हों, सप्तमेश से द्वितीय, षष्ठ और एकादश स्थानों में सौम्य ग्रह बैठे हों, ऐसी स्त्री अत्यंत सुखी और पुत्रवान होकर सुखोपभोग करने वाली होती है.पुरूष का सप्तमेश जिस राशि में बैठा हो वही राशि स्त्री की हो तो पति पत्नि में बहुत गहरा प्रेम रहता है| वर कन्या का एक ही गण हो तथा वर्ग मैत्री भी हो तो उनमें असीम प्रम होता है. दोनों की एक ही राशि हो या राशि स्वामियों में मित्रता हो तो भी जीवन में प्रेम बना रहता है|
-अगर वर या कन्या के सप्तम भाव में मंगल और शुक्र बैठे हों उनमे कामवासना का आवेग ज्यादा होगा अत: ऐसे वर कन्या के लिये ऐसे ही ग्रह स्थिति वाले जीवन साथी का चुनाव करना चाहिये.

 



अन्य प्रमुख खबरे

घर में गरीबी और दुर्भाग्य लेकर आती ये आदतें, कभी भी नहीं करें ऐसा...

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ हिन्दू धर्म में शास्त्रों का बड़ा महत्व माना गया है

पैसों की तंगी और कष्टों से मुक्ति के लिए शनिवार को करें ये उपाय

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ हर इंसान अपने जीवन में सुख की चाहत जरूर रखता है। सुख की चाहत के लिए वो खूब मेहनत करता है

हाथों की अंगुलियां है ऐसी, जानिए कैसे होते है ये व्यक्ति

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ कहते है कि इंसान के हाथ की लकीरे देखकर उसके भविष्य के बारे में जान सकते है

सपने में शिवलिंग या सांप दिखे तो इसका क्‍या है मतलब, जानें...

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ हर सपने का विशेष महत्व होता हैं और सपने में दिखाई देने वाली चीजों का हमारे जीवन से गहरा संबंध होता हैं

आपकी असफलता का कारण हो सकती हैं ये चीजें, भूलकर भी ना करें ऐसा

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ लगभग सभी लोगों की यही इच्छा रहती है कि उसके पास बहुत सारा धन हो जिससे वह अपना जीवन ठीक प्रकार से व्यतीत कर

तुलसी को आखिर क्यों मना है रविवार को छूना, भूलकर भी ना करें ऐसा

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ भारत रीति और परंपराओं से परिपूर्ण देश है

घर के किचन में नहीं होनी चाहिए ये चीजें, हो सकते हैं ये नुकसान

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ घर में किचन का अहम हिस्सा होता है

करें ये आसान उपाय, देखें कैसे फटाफट संवरती है आपकी बिगड़ी तकदीर

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ वास्तु क्या है, क्यों है, लोग क्यों इसे इतना महत्व देते है, ये बाते तो आप सभी जानते होंगे

आपके घर में हो रही है ऐसी परेशानियां,करें ये उपाय...

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ भारतीय सभ्यता में हर दिन का अलग महत्व है। खासतौर से गुरुवार को तो धर्म का दिन मानते हैं

रात को घर में नहीं करें ये काम, आर्थिक तंगी का कारण है ऐसा करना...

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ नई दिल्ली। हिंदू धर्म में ज्योतिष शास्त्र का बहुत महत्व है

लखनऊ समाचार

सेहत समाचार

बिज़नेस समाचार

धर्म संसार समाचार