•   Jul / 02 / 2015 Thu 03:48:21 PM

कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान को ट्रंप की सलाह, भारत विरोधी हिंसा, बयानबाजी सही नहीं

Aug 20 2019

कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान को ट्रंप की सलाह, भारत विरोधी हिंसा, बयानबाजी सही नहीं

इंडिया इमोशंस न्यूज अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (US President Donald Trump) ने अपने दो अच्छे दोस्तों -भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Pakistani Prime Minister Imran Khan) से कश्मीर मुद्दे (kashmir Issue) पर तनाव कम करने के लिए मिलकर काम करने का आग्रह किया है। उन्होंने पाकिस्तान को कश्मीर मुद्दे पर भारत पर उदारवादी बयान देने की भी सलाह दी। ट्रंप ने सोमवार को एक ट्वीट में कहा कि कश्मीर एक मुश्किल मुद्दा है। उन्होंने कहा कि उनकी दोनों नेताओं के साथ अच्छी बातचीत हुई है।

उन्होंने ट्वीट किया, "अपने दो अच्छे दोस्तों -भारत के प्रधानमंत्री मोदी और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री खान- से व्यापार, रणनीतिक साझेदारी और भारत तथा पाकिस्तान के लिए सबसे जरूरी कश्मीर मुद्दे पर तनाव कम करने पर बात की। एक मुश्किल मुद्दा, लेकिन अच्छी बात हुई।"

ट्रंप ने सोमवार को पहले मोदी से लगभग 30 मिनट बात की। कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तानी नेतृत्व द्वारा भारत-विरोधी मुहिम के संदर्भ में मोदी ने उन्हें बताया कि क्षेत्र में कुछ नेताओं द्वारा भारत विरोधी हिंसा तथा बयानबाजी शांति के अनुकूल नहीं है।

प्रधानमंत्री खान ट्विटर पर लगातार मोदी को फासीवादी और जातिवादी बताकर उन पर हमला करते रहते हैं। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि "मोदी भारत को हिंदू वर्चस्ववादी देश बना रहे हैं, और इसलिए देश में मुस्लिमों को बेदखल किया जा रहा है और आरएसएस के गुंडे उग्र हो गए हैं।" भारतीय विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि ट्रंप से बातचीत के दौरान मोदी ने आतंक और हिंसा से मुक्त वातावरण तैयार करने और सीमापार आतंकवाद से बचने की महत्ता पर भी जोर दिया।

मोदी ने गरीबी, अशिक्षा और बीमारी के खिलाफ लड़ाई में इस मार्ग का उपयोग करने वाले किसी का भी सहयोग करने की भारत की प्रतिबद्धता दोहराई। यह वार्ता कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करने के बाद वहां विकास कराने के भारत के प्रयासों को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में समर्थन मिलने के कुछ दिनों बाद हुई है।

व्हाइट हाउस के अनुसार, इस वार्ता में ट्रंप ने क्षेत्रीय विकास तथा अमेरिका-भारत रणनीतिक साझेदारी पर चर्चा करने के लिए मोदी से बात की। राष्ट्रपति ने भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव कम करने तथा क्षेत्रीय शांति कायम रखने की महत्ता पर भी जोर दिया।

व्हाइट हाउस के अनुसार, दोनों नेताओं ने इसके बाद व्यापार बढ़ाकर भारत-अमेरिका आर्थिक साझेदारी को और मजबूत करने तथा दोबारा जल्द मिलने के संबंध में चर्चा की।

ट्रंप ने इसके बाद खान से बात की। पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने सोमवार रात कहा कि कश्मीर की मौजूदा स्थिति पर मोदी से बात करने के बाद ट्रंप ने खान को फोन किया।

रेडियो पाकिस्तान की रिपोर्ट के अनुसार, इस्लामाबाद में सोमवार रात एक प्रेस ब्रीफिंग में कुरैशी ने कहा कि खान द्वारा 16 अगस्त को फोन करने के बाद ट्रंप ने नरेंद्र मोदी को फोन किया और पाकिस्तान तथा भारत के बीच तनाव कम करने की इच्छा जताई। व्हाइट हाउस ने इस संबंध में कहा, "राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने जम्मू एवं कश्मीर की स्थिति पर भारत से तनाव कम करने तथा नरम रुख अपनाने की जरूरत पर खान से फोन पर बात की।"

व्हाइट हाउस के अनुसार, "ट्रंप ने स्थिति पर तनाव घटाने की जरूरत को दोहराया और दोनों पक्षों से संयम रखने का आग्रह किया। दोनों नेताओं (ट्रंप और खान) ने भी अमेरिका-पाकिस्तान आर्थिक तथा व्यापारिक साझेदारी को और मजबूत करने के लिए आगे साथ काम करने पर सहमति जताई।"

कश्मीर पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक से पहले 16 अगस्त को ट्रंप को किए गए फोन पर खान ने कश्मीर पर भारत के 'अवैध' कदम पर अपनी चिंता जताई थी।

खान ने ट्रंप से कहा था कि कश्मीर पर नई दिल्ली के कदम से क्षेत्रीय शांति को खतरा है। ट्रंप ने खान को भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव को कम करने के लिए द्विपक्षीय बातचीत की महत्ता बताई थी। अमेरिका ने दोहराया है कि कश्मीर पर उसकी नीति में कोई बदलाव नहीं हुआ है और यह भारत तथा पाकिस्तान के बीच का द्विपक्षीय मुद्दा है।