राहुल गांधी में पीएम बनने के सभी गुण, मेरे पिता बिहार के शेर: तेजस्वी

विस्तृत समाचार

जानें, दुनियां का सबसे बड़ा दानवीर कौन

Posted on : May 05 2018


जानें, दुनियां का सबसे बड़ा दानवीर कौन

इंडिया इमोशन्स न्यूज दान तन, मन, धन से होता है, लेकिन यह जरूरी नहीं कि धन होने से दान हो। अगर आपके द्वारा दिल से किसी के प्रति सहानुभूति दी जाती है या शारीरिक मदद दी जाती है तो उसे भी दान माना जाता है। दान देने की प्रक्रिया उस मनुष्य में ज्यादा होगी जिसका दिल मक्खन से भी नर्म हो। कारण कि मक्खन को गर्मी चाहिए तब वह पिघलेगा लेकिन अच्छे इंसान का दिल दूसरों का दुख देखकर पिघल जाएगा इसलिए जिसका दिल मक्खन के समान नर्म है उसे संत के तुल्य माना जाता है।


दानवीरों में महाभारत के समय में हुए ‘महारथी कर्ण’ का नाम सबसे पहले आता है जिन्होंने हमेशा उनके पास जो भी आया उसकी जरूरत के अनुसार दान दिया। कहा जाता है कि अर्जुन के दिल में भी यह बात आई कि मेरे बड़े भाई युधिष्ठिर तो सत्यवादी के साथ-साथ दानवीर भी हैं फिर ‘कर्ण’ को मेरे भाई युधिष्ठिर से बड़ा दानवीर क्यों मानते हैं? तब भगवान कृष्ण ने उनकी शंका दूर करने के लिए, एक दिन बारिश के समय में ब्राह्मण का भेष बनाया एवं दोनों युधिष्ठिर के पास जा पहुंचे एवं उनसे कहा कि हमें हवन के लिए सूखी चंदन की लकड़ी चाहिए। युधिष्ठिर जी ने कहा कि ब्राह्मण देवता बारिश की वजह से सभी लकडिय़ां गीली हो गई हैं इसलिए मैं सूखी चंदन की लकड़ी देने में असमर्थ हूं। फिर दोनों ‘कर्ण’ के पास गए। ‘कर्ण’ ने उनसे कहा, पहले आप भोजन कर लीजिए, सूखी चंदन की लकड़ी की व्यवस्था हो जाएगी। भोजन करने के बाद ‘कर्ण’ ने अपने मकान में लगे दरवाजे एवं अपने पलंग को तुड़वाकर उनको लकड़ी दे दी जोकि चंदन की लकड़ी के थे एवं देने से पहले अपने तरकश से बाण छोड़ कर गंगाजी का पानी बहाकर पूरी लकड़ी को धुलवाया और फिर तरकश से दूसरा बाण छोड़कर गर्मी पैदा करके सभी लकडिय़ों को सुखाकर भी दिया। तब भगवान कृष्ण ने अर्जुन से कहा कि अब आप देख सकते हैं कि श्रेष्ठ दानवीर कौन है।


परोपकार के कार्य हमें आनंद प्रदान करते हैं और जीवनभर यही हमारा लक्ष्य होना चाहिए। प्रेम में अथाह शक्ति छिपी होती है। यह हमारे मन मस्तिष्क से दूषित विचारों को निकालकर उसे दैवीय भावों से भर देती है। यदि एक गरीब आदमी अपनी कमाई का 10 प्रतिशत दान करता है तो उसके दान का महत्व एक धनी आदमी के द्वारा अपनी कमाई का 10 प्रतिशत दान से अधिक महत्व रखता है क्योंकि एक गरीब आदमी अपनी कमाई का 10 प्रतिशत अपने दैनिक खर्च से काटकर देता है जबकि एक धनी आदमी अपने विलासी जीवन के साधन में से। प्यार में ऐसी शक्ति है कि मन के सारे मैल धोकर एक पवित्र भाव से भर देता है। संत शिरोमणि गोस्वामी तुलसीदास जी रामचरितमानस में लिखते हैं, ‘‘दया धर्म का मूल है, नरक मूल अभिमान। तुलसी दया न छोडि़ए, जब लग घट में प्राण।’’



अन्य प्रमुख खबरे

पूजा में चढाया हुआ नारियल यदि खराब निकल जाता हैं तो समझिए...

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ नारियल को हर शुभ काम करने के लिए शुभ मानते हैं। उससे सारे काम शुभ तरीके से हो जाते हैं

आप भी करते है व्रत, जानिए क्या है इसके फायदें

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ हिन्दू धर्म में व्रत करने की ज्यादा मान्यता देखने को मिलती है

इन पत्तों से करें गणेशजी की पूजा, सफल होंगे हर अधूरे काम...

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ हिन्दू धर्म शास्त्रों के अनुसार, किसी भी शुभ काम के करने से पहले गणेश पूजन आवश्यक हैं

तो इसलिए महिलाएं छलनी से देखती हैं पति का चेहरा

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ करवा चौथ का त्योहार पति-पत्नी के मजबूत रिश्ते, प्यार और विश्वास का प्रतीक है

शंख को इस जगह रखने से होता है लाभ, जानिए शंख के फायदे

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ हिंदू धर्म में शंख का बहुत महत्व होता है

जानें, कब से शुरू होंगे नवरात्र

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ नवरात्र के नौ दिन मां दुर्गा के नव रूपों की पूजा होती है

जानिए, सावन के महीने में नई शादीशुदा महिलाएं क्यों चली जाती हैं मायके

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ सावन का महीना शुरू हो चुका है

अमरनाथ यात्राः जानिए, पवित्र गुफा का इतिहास और अमरत्व का रहस्य

इंडिया इमोशन्स न्यूज जम्मू-कश्मीर में श्री अमरनाथ की पवित्र गुफा की महिमा निराली है

जानें, दीपक कब और कहां जलाने से होते हैं कौनसे फायदे

इंडिया इमोशन्स न्यूज भगवान की पूजा-आराधना करते समय अक्सर हम लोग पूजा की थाली में कपूर और दीपक जलाते हैं

माता सीता ने बताया, इस चमत्कारी मंत्र से मिलेगा मनचाहा Life partner

इंडिया इमोशंस न्यूज हिंदू धर्म ग्रथों में एेसे कई श्लोक दोहे तथा चौपाइयों आदि हैं जिन्हें मंत्र के रूप में प्रयोग किया जाता

लखनऊ समाचार

सेहत समाचार

बिज़नेस समाचार

धर्म संसार समाचार