समाजवादी सेक्युलर मोर्चे का औपचारिक झंडा जारी, शिवपाल के साथ नेताजी को भी मिली जगह | रेवाडी दुष्कर्म: घटना साजिश का नतीजा, आरोपी 5 दिन के रिमांड पर

विस्तृत समाचार

जानें, दुनियां का सबसे बड़ा दानवीर कौन

Posted on : May 05 2018


जानें, दुनियां का सबसे बड़ा दानवीर कौन

इंडिया इमोशन्स न्यूज दान तन, मन, धन से होता है, लेकिन यह जरूरी नहीं कि धन होने से दान हो। अगर आपके द्वारा दिल से किसी के प्रति सहानुभूति दी जाती है या शारीरिक मदद दी जाती है तो उसे भी दान माना जाता है। दान देने की प्रक्रिया उस मनुष्य में ज्यादा होगी जिसका दिल मक्खन से भी नर्म हो। कारण कि मक्खन को गर्मी चाहिए तब वह पिघलेगा लेकिन अच्छे इंसान का दिल दूसरों का दुख देखकर पिघल जाएगा इसलिए जिसका दिल मक्खन के समान नर्म है उसे संत के तुल्य माना जाता है।


दानवीरों में महाभारत के समय में हुए ‘महारथी कर्ण’ का नाम सबसे पहले आता है जिन्होंने हमेशा उनके पास जो भी आया उसकी जरूरत के अनुसार दान दिया। कहा जाता है कि अर्जुन के दिल में भी यह बात आई कि मेरे बड़े भाई युधिष्ठिर तो सत्यवादी के साथ-साथ दानवीर भी हैं फिर ‘कर्ण’ को मेरे भाई युधिष्ठिर से बड़ा दानवीर क्यों मानते हैं? तब भगवान कृष्ण ने उनकी शंका दूर करने के लिए, एक दिन बारिश के समय में ब्राह्मण का भेष बनाया एवं दोनों युधिष्ठिर के पास जा पहुंचे एवं उनसे कहा कि हमें हवन के लिए सूखी चंदन की लकड़ी चाहिए। युधिष्ठिर जी ने कहा कि ब्राह्मण देवता बारिश की वजह से सभी लकडिय़ां गीली हो गई हैं इसलिए मैं सूखी चंदन की लकड़ी देने में असमर्थ हूं। फिर दोनों ‘कर्ण’ के पास गए। ‘कर्ण’ ने उनसे कहा, पहले आप भोजन कर लीजिए, सूखी चंदन की लकड़ी की व्यवस्था हो जाएगी। भोजन करने के बाद ‘कर्ण’ ने अपने मकान में लगे दरवाजे एवं अपने पलंग को तुड़वाकर उनको लकड़ी दे दी जोकि चंदन की लकड़ी के थे एवं देने से पहले अपने तरकश से बाण छोड़ कर गंगाजी का पानी बहाकर पूरी लकड़ी को धुलवाया और फिर तरकश से दूसरा बाण छोड़कर गर्मी पैदा करके सभी लकडिय़ों को सुखाकर भी दिया। तब भगवान कृष्ण ने अर्जुन से कहा कि अब आप देख सकते हैं कि श्रेष्ठ दानवीर कौन है।


परोपकार के कार्य हमें आनंद प्रदान करते हैं और जीवनभर यही हमारा लक्ष्य होना चाहिए। प्रेम में अथाह शक्ति छिपी होती है। यह हमारे मन मस्तिष्क से दूषित विचारों को निकालकर उसे दैवीय भावों से भर देती है। यदि एक गरीब आदमी अपनी कमाई का 10 प्रतिशत दान करता है तो उसके दान का महत्व एक धनी आदमी के द्वारा अपनी कमाई का 10 प्रतिशत दान से अधिक महत्व रखता है क्योंकि एक गरीब आदमी अपनी कमाई का 10 प्रतिशत अपने दैनिक खर्च से काटकर देता है जबकि एक धनी आदमी अपने विलासी जीवन के साधन में से। प्यार में ऐसी शक्ति है कि मन के सारे मैल धोकर एक पवित्र भाव से भर देता है। संत शिरोमणि गोस्वामी तुलसीदास जी रामचरितमानस में लिखते हैं, ‘‘दया धर्म का मूल है, नरक मूल अभिमान। तुलसी दया न छोडि़ए, जब लग घट में प्राण।’’



अन्य प्रमुख खबरे

जानिए, सावन के महीने में नई शादीशुदा महिलाएं क्यों चली जाती हैं मायके

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ सावन का महीना शुरू हो चुका है

अमरनाथ यात्राः जानिए, पवित्र गुफा का इतिहास और अमरत्व का रहस्य

इंडिया इमोशन्स न्यूज जम्मू-कश्मीर में श्री अमरनाथ की पवित्र गुफा की महिमा निराली है

जानें, दीपक कब और कहां जलाने से होते हैं कौनसे फायदे

इंडिया इमोशन्स न्यूज भगवान की पूजा-आराधना करते समय अक्सर हम लोग पूजा की थाली में कपूर और दीपक जलाते हैं

माता सीता ने बताया, इस चमत्कारी मंत्र से मिलेगा मनचाहा Life partner

इंडिया इमोशंस न्यूज हिंदू धर्म ग्रथों में एेसे कई श्लोक दोहे तथा चौपाइयों आदि हैं जिन्हें मंत्र के रूप में प्रयोग किया जाता

अमीरों को भी कंगाल बना देते हैं ये काम

इंडिया इमोशन्स न्यूज भारत के महान विद्वानों में गिने जाने वाले महात्मा विदुर महाभारत के महत्वपूर्ण पात्रों में से एक हैं

चमकता सफेद पत्थर, एक रात में दिखाएगा कमाल

इंडिया इमोशन्स न्यूज घर की रसोई में बहुत सारी ऐसी चीजें होती हैं, जिनमें कमाल के गुण होते हैं

परशुराम जयंती: जानें भगवान के छठे अवतार की वीरगाथा

इंडिया इमोशन्स न्यूज समस्त सनातन जगत के आराध्य भगवान विष्णु जी के छठे अवतार भृगुकुल तिलक, अजर, अमर, अविनाशी, अष्ट चिरंजीवियों

फिर गूजेंगी शहनाइयां,18 अप्रैल से शुरू होंगे शादी के मुहूर्त

इंडिया इमोशन्स न्यूज शहर में शादी समारोह की दावतें फिर शुरू हाेने जा रही हैं। एक महीने बाद फिर से शहनाइयां गूजेंगी

देशभर में आज मनाई जा रही है हनुमान जंयती, मंदिरों में लगा भक्तों का तांता

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ नई दिल्ली। देशभर में आज हनुमान जयंती बड़ी ही धूमधाम से मनाई जा रही है

एक दिन पड़ रही अष्टमी-नवमी तिथि, यहां जानिए कन्या पूजन का सही समय

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ इस बार नवरात्रि में अष्टमी और नवमी तिथि एक ही दिन पड़ रही है

लखनऊ समाचार

सेहत समाचार

बिज़नेस समाचार

धर्म संसार समाचार