1984 सिख विरोधी दंगों के दोषी यशपाल को फांसी, नरेश को उम्रकैद | दिल्ली सचिवालय में CM केजरीवाल पर मिर्ची पाउडर से हमला | सुषमा स्वराज का ऐलान- नहीं लड़ेंगी अगला लोकसभा चुनाव

विस्तृत समाचार

सपा ने काटा नरेश अग्रवाल का पत्ता, जया बच्चन चौथी बार जाएंगी राज्यसभा

Posted on : Mar 07 2018


सपा ने काटा नरेश अग्रवाल का पत्ता, जया बच्चन चौथी बार जाएंगी राज्यसभा

इंडिया इमोशंस न्यूज नई दिल्ली, उत्तर प्रदेश की 10 राज्यसभा सीटों के लिए चुनाव हो रहे हैं. समाजवादी पार्टी ने नरेश अग्रवाल और किरणमय नंदा को राज्यसभा का पत्ता काट दिया है. सपा ने अपने दिग्गज नेताओं को दरकिनार करते हुए जया बच्चन को दोबारा से राज्यसभा भेजने का फैसला किया है. बता दें कि समाजवादी पार्टी के छह राज्य सभा सांसद रिटायर हो रहे हैं. किरणमय नंदा, दर्शन सिंह यादव, नरेश अग्रवाल, जया बच्चन, मुनव्वर सलीम और आलोक तिवारी के नाम इस लिस्ट में हैं. सपा के पास सिर्फ 47 वोट हैं, अखिलेश यादव सिर्फ एक नेता को ही संसद भेज सकते है. बाकी के अतिरिक्त वोट को गठबंधन के तहत बीएसपी उम्मीदवार को देगी.

 


समाजवादी पार्टी ने नरेश अग्रवाल, किरणमय नंदा, दर्शन सिंह यादव, मुनव्वर सलीम और आलोक तिवारी को राज्यसभा का टिकट नहीं दिया है. सपा ने अपने छह राज्यसभा सदस्यों में सिर्फ जया बच्चन को भेजने का फैसला किया है. बता दें कि मुलायम सिंह के करीबी दर्शन सिंह यादव का पत्ता पहले ही कट चुका था. आज़म खान के दाहिने हाथ मुनव्वर सलीम मध्य प्रदेश के रहने वाले हैं और आज़म खान की मेहरबानी से राज्य सभा पहुंच गए थे. इस वार वो रेस से बाहर थे. समाजवादी पार्टी के बड़े नेता ब्रजभूषण तिवारी की मौत के बाद आलोक तिवारी को सांसद बनाया गया था. वो दौर मुलायम सिंह का था और ये दौर अखिलेश यादव का है. नरेश अग्रवाल, किरणमय नंदा और जया बच्चन के बीच नाम तय होना था. नरेश अग्रवाल पार्टी के महासचिव रामगोपाल यादव के करीबी माने जाते हैं. इसी के चलते उनका पत्ता कटा है. वहीं जया बच्चन का किसी गुट में ना होना ही उनके लिए वरदान साबित हुआ और पार्टी ने उन्हें चौथी बार राज्यसभा भेजने का फैसला किया है.

 


राज्यसभा का गणित
राज्यसभा चुनाव का फॉर्मूला है, खाली सीटें में एक जोड़ से विधानसभा की सदस्य संख्या से भाग देना. निष्कर्ष में भी एक जोड़ने पर जो संख्या आती है. उतने ही वोट एक सदस्य को राज्यसभा चुनाव जीतने के जरूरी होता है.10 सीटों में 1 को जोड़ा तो हुए 11. अब 403 को 11 से भाग देते हैं तो आता है 36.63. इसमें 1 जोड़ा जाए तो आते हैं 37.63. यानी यूपी राज्यसभा चुनाव जीतने के लिए एक सदस्य को औसतन 38 विधायकों का समर्थन चाहिए. यूपी विधानसभा में सदस्यों की संख्या 403 है, जिसमें 402 विधायक 10 राज्यसभा सीटों के लिए वोट करेंगे. इस आकड़े के मुताबिक बीजेपी गठबंधन के खाते में 8, सपा को एक सीट. क्योंकि सपा के पास 47 विधायक हैं. ऐसे में वो सिर्फ अपने एक ही सदस्य को राज्यसभा भेज सकती है. सपा अपने10 अतरिक्त वोट, बीएसपी के 19, कांग्रेस के 7 और 3 अन्य मिलाकर विपक्ष का एक उम्मीदवार जा सकता है.

 



अन्य प्रमुख खबरे

जेटली ने राहुल गांधी पर कसा तंज, राफेल पर झूठ बोलने वालों की हुई हार

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ नई दिल्ली। वित्तमंत्री अरुण जेटली ने कहा है कि राफेल पर झूठ बोलने वालों की हार हुई है

राजस्थान - अशोक गहलोत होंगे मुख्यमंत्री, पायलट डिप्टी सीएम

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ जयपुर। अशोक गहलोत राजस्थान के नए मुख्यमंत्री होंगे

नेपाल में आज से भारत की नई करेंसी होगी गैरकानूनी, इन नोटों पर लगी लगाम

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ भारत की नई करेंसी नेपाल में गैरकानूनी घोषित कर दी गई है

मध्यप्रदेश: 17 दिसंबर को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे कमलनाथ

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ भोपाल/नई दिल्ली। मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ मध्य प्रदेश के नए मुख्यमंत्री होंगे

के. चंद्रशेखर राव ने तेलंगाना के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ हैदराबाद। के. चंद्रशेखर राव ने गुरुवार को तेलंगाना के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ले ली

इस्तीफा देने के बाद बोले शिवराज, अब हम करेंगे चौकीदारी

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ भोपाल। मध्य प्रदेश में कांग्रेस 15 साल बाद सत्ता में वापसी करने जा रही है

लखनऊ समाचार

सेहत समाचार

बिज़नेस समाचार

धर्म संसार समाचार