1984 सिख विरोधी दंगों के दोषी यशपाल को फांसी, नरेश को उम्रकैद | दिल्ली सचिवालय में CM केजरीवाल पर मिर्ची पाउडर से हमला | सुषमा स्वराज का ऐलान- नहीं लड़ेंगी अगला लोकसभा चुनाव

विस्तृत समाचार

पेट की गडबडी के कारण व निवारण

Posted on : Feb 14 2018


पेट की गडबडी के कारण व निवारण

इंडिया इमोशंस न्यूज  पेट में गडबडी आम समस्या है, जिसके अलग-अलग कारण हो सकते हैं। क्यों ना इसका तुरंत समाधान कर चुस्त रहा जाए महिलाएं पेट की गडबडी की अधिक शिकार होती हैं। इसके कुछ कारण तो बहुत सामान्य होते हैं, पर कुछ ऐसे भी होते हैं, जिनके बारे में ज्यादा मालूम नही होता, इसलिए उस ओर हमारा ध्यान भी नही जाता। कौन से हैं ये कारण, इस बारे में एक जानकारी।
कई महिलाएं माहवारी शुरू होने से पहले पेट में भारीपन, कब्ज और अतिसार की शिकायत करती हैं। माहवारी के शुरू होते ही स्थिति में अचानक बदलाव आता है और यह समस्या अपने आप दूर हो जाती है। सन डियागो में गैस्ट्रोएंट्रोलॉजिस्ट डॉ के अध्ययनो से पता चलता है कि एस्ट्रोजन हारमोन नसों के तंतुओं को प्रेरित कर आंतो से गुजरने वाले मल की गति को बढा देता है। इसी तरह माहवारी के पहले और माहवारी के दौरान पेट का फूलना एक आम समस्या है। इसका कारण प्रोजस्ट्रॉन हारमोन के स्तर में बदलाव आना है, जो गुर्दे के लिए पानी और नमक को रोककर रखने का संकेत हो सकता है।
गर्भवती महिलाओं में पेट की गडबडी, खासतौर से खट्टी डकारें आने की समस्या अधिक होती है। अमेरिकन गैस्ट्रोएंट्रोलॉजिकल एसोसिएशन के अनुसार 30 से 50 प्रतिशत गर्भवती महिलाएं इस समस्या की शिकार होती हैै। इसका कारण हारमोनल और शारीरिक बदलाव होता है।
कुछ अध्ययनों से पता चलता है कि कैल्शियम सप्लीमेंट लेने से पेट के फूले होने और प्रीमेंस्टु्रअल सिंड्रोम के अन्य लक्षणों में सुधार हो सकता है। इसके साथ ही पानी भी अधिक मात्रा में पिएं। खट्टी डकारें खासतौर से गर्भावस्था में से छुटकारा पाने के लिए रात को सिर के नीचे कई तकिए लगा कर सोएं। सिट्रस, पिपरमिंट, मिर्च-मसालेदार या फिर टमाटर से बनी चीजें खाने से परहेज करे, क्योंकि ये इस समस्या को बढावा देती हैं।

अतिसार होने पर- केला, दही और चावल खाएं।
पेट दर्द होने पर- मूली के रस में नीबू मिलाकर पीने से भोजन के बाद पेट में होने वाला दर्द या गैस मिटता है।
2 ग्राम सेंधा नमक खाने से पेट का दर्द कम होता है।

गैस और पेट में भारीपन- भोजन के बाद 125 ग्राम दही के मट्ठे में 2 ग्राम अजवाइन और आधा ग्राम काला नमक मिला कर खाने से गैस दूर होती है और पेट का भारीपन कम होता है।

धनिया और शक्कर का शरबत बना कर पीने से पेट की जलन में आराम मिलता है।

डाक्टर के पास कब जाएं
खट्टी डकारें आने पर-दर्द इतना ज्यादा हो कि आप सो ना सकें या फिर निगलने में परेशानी हो, छाती में दर्द हो और सांस लेने में कठिनाई हो, या फिर व्यायाम के दौरान ये लक्षण और भी बिगड जाएं, तो तुरंत अपने डाक्टर से मिलें। जीवनशैली में बदलाव लाने या दूसरे तरीके अपनाने के बावजूद यह समस्या बनी रहे और इलाज ना कराया जाए, तो बार-बार खट्टी डकारें आने से कैंसर से पूर्व की स्थितियां बन जाती है।

 



अन्य प्रमुख खबरे

सर्दियों में करें सौंठ का इस्तेमाल, इन 5 परेशानियों से मिलेगा छुटकारा

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ सर्दी के मौमस में सभी खुद को बीमारियों से बचने और खुद को फीट रखने के लिए कुछ ना कुछ करते रहते हैं

पुरुषों की तुलना में महिलाओं को होता है ज्यादा सिरदर्द, जानिए 6 बड़ी वजह

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ पुरुषों की तुलना में महिलाएं सिरदर्द का अनुभव ज्यादा करती हैं

सर्दियों में ऐसे रखें अपनी स्किन का ख्याल

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ सर्दियों का मौसम आते ही हमारी त्वचा के लिए मुश्किल घड़ी आ जाती है और इस दौरान सही देखभाल न होने पर त्वचा

रोजाना तुलसी वाला दूध पीने से आप रहेंगे हमेशा स्वास्थ्य...

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ रोजाना तुलसी वाला दूध पीने से आपकी माइग्रेन और किडनी स्टोन की समस्या दूर हो जाती है

आंकड़े बताते हैं कि बच्चों में मोटापे को शुरुआत में रोकने से...

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ एक नए शोध में खुलासा हुआ है कि मोटापे से बच्चों में दमा (अस्थमा) का खतरा बढ़ जाता है

हर रोज फ्रेश रहना चाहती हैं....

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ हर रोज फ्रेश रहना चाहती हैं। चाहे मौसम कोई भी हो, पसीने की बदबू आपके आसपास भी न फटके

चुकंदर है रक्तशोधक व कई रोगों में लाभकारी

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ हैल्दी जीवन जीना भला कौन चाहता। इसके लिए लोग तरह-तरह के उपाय भी करते हैं

10 दिनों में कम होगा Tummy Fat, पिएं जीरे और अदरक की ड्रिंक

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ पेट की चर्बी के कारण अक्सर लड़कियां साड़ी या हाई वेस्ट पेंट पहनने से कतराती हैं

लखनऊ समाचार

सेहत समाचार

बिज़नेस समाचार

धर्म संसार समाचार