सांसद कौशल किशोर के पुत्र ने साले संग मिल खुद को मारी थी गोली, पिस्टल बरामद

Mar 03 2021

सांसद कौशल किशोर के पुत्र ने साले संग मिल खुद को मारी थी गोली, पिस्टल बरामद
सांसद कौशल किशोर के बेटे आयुष

india emotions. लखनऊ। मोहनलाल गंज से भाजपा सांसद कौशल किशोर के बेटे आयुष पर मंगलवार देर रात करीब सवा दो बजे हमला किए जाने की सूचना पुलिस को 112 नंबर से मिली। हमले में सांसद पुत्र आयुष को गोली लगने से घायल होना बताया गया। घटना के समय आयुष के साले आदर्श मौके पर मौजूद होने की वजह से पूरा मामला पुलिस को संदिग्ध लगने लगा। पुलिस की शुरुआती पड़ताल में यह बात सामने आई, कि सांसद पुत्र आयुष ने शादीशुदा लड़की से प्रेम विवाह किया है और घर वाले इस शादी से सहमत नहीं हुए,तो वह अलग किराए का मकान लेकर पत्नी के साथ रहने लगा था। पुलिस की पूंछतांछ में साले आदर्श ने पूरी सच्चाई कबूल कर ली। अब पुलिस आयुष व शाजिश में सामिल साले आदर्श के खिलाफ कार्रवाई की तैयारी में लगी है।

एक साल पूर्व किया था प्रेम विवाह

सांसद कौशल किशोर के बेटे आयुष ने एक साल पहले प्रेम विवाह एक शादीशुदा युवती से किया था। पुलिस की जांच में भी यह बात सामने आई है कि,सांसद के बेटे आयुष के इस प्रेम विवाह की वजह से परिवार के लोग नाराज थे,जिसके कारण वह घर के अलग दुध मंडी सीतापुररोड स्थित किराए के मकान में पत्नी के साथ रहता था। पुलिस की जांच में यह बात सामने आई कि चार युवकों को फंसाने के लिए सांसद के पुत्र आयुष ने खुद पर साले से हमला करवाया था। सूत्रों से यह भी जानकारी मिली है,कि चार युवकों से पैसे को लेकर कोई विवाद कुछ दिन पूर्व हुआ था।

पुलिस जाँच के बाद उचित कार्रवाई करे: सांसद

सांसद कौशल किशोर ने कहा कि, मेरे से बेटे का कोई विवाद का मैटर नहीं है। उसने अपनी मर्जी से शादी कर ली थी, वह लड़की पहले से शादीशुदा है और बेटे उर्म से बड़ी भी है। इस शादी को हम सबने मना किया,तो बेटे आयुष ने कहा कि कहा कि आप लोग नहीं मानेंगे,तो हम सुसाइड कर लेंगे। तब हम लोगों ने कहा ठीक है। तुम हम लोगों से अलग रहो। हम लोगों ने कोई भी मतलब बात नहीं हैं। हम लोगों का कोई पारिवारिक विवाद नहीं था। अगर उसने ऐसा किया है। खुद पर गोली क्यों चलवाई है, तो उसने ऐसा क्यों किया है। इसकी जांच की जानी चाहिए।

अस्पताल से अभी नही पहुंचा घर

सांसद ने कहा कि, मेरी मुलाकात ट्रामा सेंटर में हुई थी। वहां से डिस्चार्ज होने के बाद उसने बताया कि मैं घर जा रहा हूँ,लेकिन अभी घर नहीं पहुंचा है। कहां गया हैं अभी बताया भी नहीं। कौशल किशोर का कहना है कि, कोई भी निर्दोष नहीं फंसना चाहिए, एक बार पुलिस अपनी तरीके से जांच कर ले। फिर जो बातें सामने आएंगे उसके आधार पर तहरीर दी जाएगी। उन्होंने कहा कि हम चाहते हैं कि कोई भी निर्दोष नहीं फंसे,इसलिए तहरीर नहीं दी हैं। जैसे जांच हो जाएगी तहरीर दी जाएगी। पुलिस जांच करें जैसा चाहेगी वैसा जांच करेगी। सांसद ने कहा कि, मैंने अपने बेटे से ट्रामा में पुलिस के सामने बात की, लेकिन उसने बताया किसने गोली चलाई मैं नहीं पहचानता हूं। अगर उसने ऐसा किया है, उसका साला आदर्श जो कह रहा वह सही है तब उसकी गलती है जो पुलिस उस पर उचित कार्यवाही करें।

कुछ लोगों को फंसाने के लिए मारी गोली

आयुष के साले आदर्श ने बताया कि, वह हमसे ऐसा बोले थे कि चार-पांच लोग हैं, जिनको फंसाना हैं। जिसमें चंदन गुप्ता, मनीष जायसवाल,प्रदीप कुमार सिंह और एक का नाम याद नहीं हैं। उन्होंने कहा था कि, तुम गोली चला देना, आगे मैं सब समझ लूंगा।

प्रभावशाली नेता हैं कौशल किशोर

कौशल किशोर मोहनलालगंज लोकसभा से तीसरे बार 2019 में सांसद चुने गए। वह परख महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं, और पार्टी के पूर्व एससी विंग के राज्य अध्यक्ष हैं। वह पार्टी के प्रभावशाली नेता हैं और उन्हें सामाजिक न्याय के मुद्दों से संबंधित अपनी सक्रियता के लिए राष्ट्रव्यापी मान्यता प्राप्त है। सांसद कौशल किशोर की पत्नी जया देवी मलिहाबाद विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं। उनके चार पुत्र में मझले बेटे आकाश किशोर की किडनी फेल होने की वजह से मौत हो गई थी, एक पुत्री भी है। कौशल किशोर बामपंथी पार्टी माले से अपनी राजनीति की शुरुआत किये थे।