1984 सिख विरोधी दंगों के दोषी यशपाल को फांसी, नरेश को उम्रकैद | दिल्ली सचिवालय में CM केजरीवाल पर मिर्ची पाउडर से हमला | सुषमा स्वराज का ऐलान- नहीं लड़ेंगी अगला लोकसभा चुनाव

विस्तृत समाचार

विश्वकर्मा पूजा : कौन हैं भगवान विश्कर्मा, जानें पूजा विधि और महत्व

Posted on : Sep 16 2017


विश्वकर्मा पूजा : कौन हैं भगवान विश्कर्मा, जानें पूजा विधि और महत्व

इंडिया इमोशंस न्यूज , विश्वकर्मा जयन्ती आज यानी 17 सितंबर को पूरे देश में बड़े ही उत्साह के को मनाई जा रही है। हिन्दू मान्यताओं के अनुसार, ब्रह्मांड का निर्माण करने वाले भगवान विश्वकर्मा को दुनिया का पहला वास्तुकार माना जाता है। इस दिन लोग अपने संस्थान, कारखाने और यंत्रों को एक स्थान पर रखकर भगवान विश्वकर्मा की पूजा करते हैं। जानिए कौन हैं विश्वकर्मा और क्यों की जाती इनकी पूजा


भगवान विश्वकर्मा श्रृष्टि का निर्माण
पौराणिक कथाओं के अनुसार, श्रृष्टि का निर्माण भगवान विश्वकर्मा ने ही किया था। दुनिया में मौजूद हर चीज का निर्माण भगवान विश्वकर्मा ने किया था इनमें से प्रमुख, स्वर्ग लोक, सोने की लंका, और द्वारका आदि सभी का निर्माण विश्वकर्मा के हाथों ही हुआ था। कुछ कथाओं के अनुसार भगवान विश्वकर्मा का जन्म देवताओं और राक्षसों के बीच हुए समुद्र मंथन से माना जाता है।


वास्तुकारों के गुरु हैं भगवान विश्वकर्मा
वास्तुकार कई युगों से भगवान विश्वकर्मा अपना गुरू मानते हुए उनकी पूजा करते आ रहे हैं। माना जाता है कि दुनिया को वास्तु और शिल्पकला भगवान विश्वकर्मा से ही मिली है।


तो इसलिए करते विश्वकर्मा पूजा?
देश में शायद ही ऐसी कोई फैक्टरी, कारखाना, कंपनी या कार्यस्थल हो जहां 17 सितंबर को विश्वकर्मा की पूजा न की जाती हो। वेल्डर, मकैनिक और इस क्षेत्र में काम कर रहे विश्वकर्मा जयंती पर भगवान विश्कर्मा की पूजा करते हैं जिससे कि उनका काम पूरे साल सुचारू रूप से चलता रहे। यह त्यौहार देश के लगभग हर इलाके में मनाया जाता है। हालांकि कुछ इलाकों में दीपावली के बाद गोवर्धन पूजा के दिन इस त्यौहार को मनाने का चलन है।


कैसे होती है पूजा-अर्चना?
इस दिन सभी कार्यस्थलों पर भगवान विश्वकर्मा की तस्वीर या मूर्ति की पूजा होती है। हर जगह को फूलों से सजाया जाता है। भगवान विश्वकर्मा और उनके वाहन हाथी को पूजा जाता है। पूजा-अर्चना खत्म होने के बाद सभी में प्रसाद बांटा जाता है। कई कंपनियों में लोग अपने औजारों की भी पूजा करते हैं जो उन्हें दो वक्त की रोटी देती है। काम फले-फूले इसके लिए यज्ञ भी कराए जाते हैं।



अन्य प्रमुख खबरे

इन पत्तों से करें गणेशजी की पूजा, सफल होंगे हर अधूरे काम...

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ हिन्दू धर्म शास्त्रों के अनुसार, किसी भी शुभ काम के करने से पहले गणेश पूजन आवश्यक हैं

तो इसलिए महिलाएं छलनी से देखती हैं पति का चेहरा

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ करवा चौथ का त्योहार पति-पत्नी के मजबूत रिश्ते, प्यार और विश्वास का प्रतीक है

शंख को इस जगह रखने से होता है लाभ, जानिए शंख के फायदे

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ हिंदू धर्म में शंख का बहुत महत्व होता है

जानें, कब से शुरू होंगे नवरात्र

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ नवरात्र के नौ दिन मां दुर्गा के नव रूपों की पूजा होती है

जानिए, सावन के महीने में नई शादीशुदा महिलाएं क्यों चली जाती हैं मायके

इंडिया इमोशन्स न्यूज़ सावन का महीना शुरू हो चुका है

अमरनाथ यात्राः जानिए, पवित्र गुफा का इतिहास और अमरत्व का रहस्य

इंडिया इमोशन्स न्यूज जम्मू-कश्मीर में श्री अमरनाथ की पवित्र गुफा की महिमा निराली है

जानें, दीपक कब और कहां जलाने से होते हैं कौनसे फायदे

इंडिया इमोशन्स न्यूज भगवान की पूजा-आराधना करते समय अक्सर हम लोग पूजा की थाली में कपूर और दीपक जलाते हैं

माता सीता ने बताया, इस चमत्कारी मंत्र से मिलेगा मनचाहा Life partner

इंडिया इमोशंस न्यूज हिंदू धर्म ग्रथों में एेसे कई श्लोक दोहे तथा चौपाइयों आदि हैं जिन्हें मंत्र के रूप में प्रयोग किया जाता

अमीरों को भी कंगाल बना देते हैं ये काम

इंडिया इमोशन्स न्यूज भारत के महान विद्वानों में गिने जाने वाले महात्मा विदुर महाभारत के महत्वपूर्ण पात्रों में से एक हैं

जानें, दुनियां का सबसे बड़ा दानवीर कौन

इंडिया इमोशन्स न्यूज दान तन, मन, धन से होता है, लेकिन यह जरूरी नहीं कि धन होने से दान हो

लखनऊ समाचार

सेहत समाचार

बिज़नेस समाचार

धर्म संसार समाचार