•   Jul / 02 / 2015 Thu 03:48:21 PM

देशव्यापी अभियान: बंद हो शिक्षा का व्यवसायीकरण, 3 माह की फीस माफ हो

Jun 14 2020

देशव्यापी अभियान: बंद हो शिक्षा का व्यवसायीकरण, 3 माह की फीस माफ हो

india emotions news network, lucknow. आज भारतीय अभिभावक वेलफेयर एसोसिएशन (BAWA) के तत्वाधान में शिक्षा के व्यवसायीकरण के विरुद्ध तथा कोविड-19 पान्डेमिक की अवधि में 3 माह की फीस माफ करने हेतु देशव्यापी अभियान चलाया गया!


उत्तर प्रदेश में कानपुर, गाजियाबाद ,आजमगढ़, लखनऊ समेत अन्य जिलों में तथा देश में मध्य प्रदेश नई दिल्ली, गुजरात, बिहार, झारखंड, महाराष्ट्र इत्यादि राज्यों में जिला अधिकारी के माध्यम से माननीय प्रधानमंत्री तथा माननीय मुख्यमंत्रियों को 3 माह की फीस माफी व कक्षा 5 तक ऑनलाइन क्लासेज बंद करने तथा स्कूलों के खुलने के विषय सुरक्षा संबंधी रोक लगाने एवं प्राइवेट एवं पब्लिक स्कूलों के सरकारी ऑडिट करा कर सार्वजनिक करने के विषय में ज्ञापन प्रेषित किया गया l


राष्ट्रीय प्रबंधक जीतेंद्र सिंह चौहान ने बताया कि इस अभियान में ज्ञापन प्रेषित करने के साथ देशभर में अभिभावकों द्वारा सोशल मीडिया पर ट्विटर के माध्यम से माननीय प्रधानमंत्री माननीय केंद्रीय शिक्षा मंत्री तथा राज्यों के मुख्यमंत्रियों को ट्वीट कर इस समस्या से अवगत कराया गया ।


राष्ट्रीय संयोजक अभिषेक खरे ने कहा कि *वन नेशन, वन एजुकेशन 'विदाउट कॉमर्सलाइजेशन* की थ्योरी लागू होनी चाहिए । शिक्षा मूलभूत अधिकार है और आम जनमानस तक इसे सुलभता से पहुंचना चाहिए l


प्रदेश अध्यक्ष श्रीमती सीमा त्यागी ने कहा कि अभिभावकों का या अभियान ट्विटर पर टॉप ट्रेंड में रहा और सोशल मीडिया पर यह मुद्दा देश भर में छाया रहा । लखनऊ में ज्ञापन देने वालों में सतपाल सिंह मीत, अमित वर्मा रविंद्र गुप्ता, विजय शर्मा, संतोष त्रिपाठी, मनीष गुप्ता, विनय विक्रम सिंह, एडवोकेट सत्येंद्र मिश्रा, रिद्धि किशोर गौड़, आशीष अग्रवाल, पंकज अग्रवाल जुबली कॉलेज के पूर्व प्रधान आचार्य के पी सिंह, हरविंदर सिंह व अन्य संगठनों के प्रतिनिधि उपस्थित रहे ।